Monday, June 9, 2008

जिन्दगी

एक बार यूं रस्ते से गुजर ।
आए मुझे कुछ चहरे नजर ।
कुछ रोते तो कुछ जो हसते ।
कुछ मस्तो से मौज जो करते ।

यूं मन में आया विचार ।
क्यों ना जिन्दगी पर करू विचार ।

पास टीला था , बैठ गया
यूं गहराई में उतरने लगा।
फिर सिर के बल भी उलझ गए ।
तर्क वितर्क से झगड़ पड़े।
झगड़ झगड़ कर सुलझ गए ।
और राज यूं खुल पड़े
टैब चहरे पर आई मुस्कान ।
थोडी सी हुई मुझे थाकन ।

फिर आत्मा को भी टटोला
टैब परिभाषा में यूं बोला

" सबकी इक राह होती है,
थोडी कठिन वो होती है ,
बस समय से साथ चलना होता है
इसी का नाम जिंदगानी होता है "



--- नरेन्द्र सिसोदिया "साहिल"
---- 1997 (I was in class 8th)
---- (c) 2008 , Narendra Sisodiya, All Rights Reserved

No comments: