Monday, June 9, 2008

मैं बढ़ा जा रहा हू

नित नए सपने अदम्य सहस
अप्रितम लक्ष्य बस मेरा साथ
लिए जा रहा हू
मैं बढ़ा जा रहा हू

नित नए संघर्ष अटूट विश्वास
केवल ध्रेय सम्मुख उजास
किए का रहा हू
मैं बढ़ा जा रहा हू


पारिस्थितिक लक्ष्य , मन की पुकार
"क्यू" को मिटा कर
चला जा रहा हू
मैं बढ़ा जा रहा हू

अनदेखी डगर , नीला आकाश
मोम के पंखो पर आज
उडा जा रहा हू
मैं बढ़ा जा रहा हू

नित नए पथ , नए पथ साथी
कुछ पल साथ और फिर यादें
छोडे जा रहा हू
मैं बढ़ा जा रहा हू


--- नरेन्द्र सिसोदिया "साहिल"
---- 14 / 9 / 2003
---- (c) 2008 , Narendra Sisodiya, All rights reserved

No comments: